Kadak Singh movie review: धीमी गति से चलने वाला रहस्य या पंकज त्रिपाठी का एक और बेहतरीन अभिनय?

Kadak Singh Review: एक थ्रिलर फिल्म है जो 2023 में रिलीज़ हुई है। फिल्म में पंकज त्रिपाठी और परवती थिरुवोथु मुख्य भूमिका में हैं। फिल्म एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताती है जो अस्पताल में भर्ती है और उसे रेट्रोग्रेड एम्नेशिया है। फिल्म उसके जीवन के रहस्य को सुलझाने की कोशिश करती है।

फिल्म की शुरुआत धीमी है और दर्शकों को यह समझने में कुछ समय लगता है कि क्या हो रहा है। हालांकि, Kadak Singh की गति धीरे-धीरे बढ़ती है और दर्शकों को कहानी में शामिल रखने में सफल होती है। फिल्म का अंत चौंकाने वाला है और दर्शकों को सोचने पर मजबूर कर देता है।

Kadak Singh Rating: 6.5/10

Kadak Singh की कहानी

फिल्म की कहानी अरुण कुमार श्रीवास्तव (पंकज त्रिपाठी) के इर्द-गिर्द घूमती है, जो एक वित्तीय अपराध विभाग के अधिकारी हैं। एक दिन, वह एक भ्रष्टाचार के मामले की जांच कर रहे हैं, जब वह एक हादसे में घायल हो जाते हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जाता है। अस्पताल में, उन्हें पता चलता है कि उन्हें रेट्रोग्रेड ऐमनेशिया है, जिसका मतलब है कि उन्हें अपना अतीत याद नहीं है।

एक नर्स, डॉक्टर नंदिनी (पार्वती तिरुवोथु), श्रीवास्तव की देखभाल करती है और उसे अपने अतीत को याद दिलाने की कोशिश करती है। श्रीवास्तव को धीरे-धीरे पता चलता है कि वह एक गुस्सैल और कठोर आदमी थे, जो अपने परिवार से भी दूर थे। वह अपनी बेटी साक्षी (संजना सांघी) और बेटे आदित्य (वरुण बुद्धदेव) के साथ अपने संबंधों को सुधारने की कोशिश करते हैं।

इस बीच, श्रीवास्तव को याद आता है कि वह जिस भ्रष्टाचार के मामले की जांच कर रहे थे, उसमें कई शक्तिशाली लोग शामिल थे। वह इन लोगों से बदला लेने की कसम खाते हैं।

फिल्म एक रहस्यमय कहानी है, जिसमें श्रीवास्तव अपने अतीत को याद करने और बदला लेने के लिए संघर्ष करते हैं। फिल्म में कई ट्विस्ट और टर्न हैं, जो दर्शकों को अंत तक बांधे रखते हैं।

Kadak Singh की प्रदर्शन

पंकज त्रिपाठी ने हमेशा की तरह शानदार काम किया है। उन्होंने श्रीवास्तव के किरदार को बखूबी निभाया है, जो कभी गुस्सैल होता है तो कभी हताश। उनके अभिनय में गहराई है, जो दर्शक को अपने साथ जोड़े रखती है। उनके अलावा, पार्वती तिरुवोथु भी अपनी भूमिका में प्रभावशाली हैं। हालांकि, फिल्म में अन्य पात्रों को ज्यादा विकसित नहीं किया गया है, जिससे उनकी भूमिकाएं थोड़ी फीकी लगती हैं।

Kadak Singh का निर्देशन

अनुराग रॉय चौधरी, जो ‘पिंक’ और ‘लॉस्ट’ जैसी फिल्मों के लिए जाने जाते हैं, ने इस फिल्म का निर्देशन किया है। उन्होंने फिल्म को एक रहस्यमयी माहौल देने की कोशिश की है, लेकिन कुछ हद तक ही सफल हो पाए हैं। कहानी को थोड़ा और तेज और रोमांचक बनाया जा सकता था।

रॉय चौधरी ने फिल्म की शुरुआत बहुत ही प्रभावशाली तरीके से की है। श्रीवास्तव के अस्पताल में भर्ती होने के बाद, धीरे-धीरे पता चलता है कि वह एक भ्रष्टाचार के मामले की जांच कर रहे थे। यह शुरुआत दर्शकों को उत्साहित करती है और उन्हें फिल्म देखने के लिए प्रेरित करती है।

हालांकि, कहानी के आगे बढ़ने के साथ-साथ फिल्म की गति धीमी पड़ जाती है। कई बार तो दर्शक ऊबने लगते हैं। इसके अलावा, कुछ तार्किक खामियां भी हैं, जो दर्शकों के लिए परेशानी का सबब बन सकती हैं।

रॉय चौधरी ने फिल्म को एक रहस्यमयी माहौल देने की कोशिश की है, लेकिन वे इसमें पूरी तरह से सफल नहीं हो पाए हैं। फिल्म में कई बार ऐसे दृश्य हैं जो रहस्यमयी होने के बजाय बेतुके लगते हैं।

Kadak Singh movie review: कुल मिलाकर, अनुराग रॉय चौधरी ने फिल्म का निर्देशन अच्छी तरह से किया है, लेकिन वे फिल्म को एक अच्छी थ्रिलर बनाने में सफल नहीं हो पाए हैं।

Kadak Singh cast

  • पंकज त्रिपाठी – ए.के. श्रीवास्तव
  • पार्वती तिरुवोथु – डॉक्टर नंदिनी
  • जया अहसान – गीता श्रीवास्तव
  • संजना सांघी – ऋषिता श्रीवास्तव
  • जोगी मलंग – जय
  • दिलीप शंकर – डॉक्टर साहब

Leave a Comment