Asian games 2023:यशस्वी जायसवाल ने शुभमन गिल को पछाड़ा, ऐतिहासिक रिकॉर्ड बनाया

Yashasvi Jaiswal becomes India’s youngest t20 centurion

Asian Games 2023: एशियन गेम्स 2023 में भारत की क्रिकेट टीम ने अपनी शानदार प्रदर्शन से सभी को चौंका दिया है। भारत ने नेपाल को क्वार्टर फाइनल में 9 विकेट से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई है। इस जीत के पीछे भारत के युवा बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल का बड़ा हाथ रहा है। यशस्वी ने नाबाद 100 रनों की पारी खेलकर टी20 क्रिकेट में भारत के सबसे कम उम्र के शतकवीर बनने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है।

चीन में जारी Asian Games 2023 के क्वार्टर फाइनल में भारत ने नेपाल को 125 रनों से हराया। इस जीत में यशस्वी जायसवाल की भूमिका अहम रही। उन्होंने 48 गेंदों में 100 रनों की नाबाद पारी खेली। यह टी20 में भारत के लिए सबसे कम उम्र में शतक बनाने का रिकॉर्ड है। उन्होंने शुभमन गिल के रिकॉर्ड को तोड़ा, जिन्होंने 2018 में 20 साल 302 दिन की उम्र में शतक बनाया था।

यशस्वी जायसवाल ने अपनी पारी में 11 चौके और 3 छक्के लगाए। उन्होंने पारी की शुरुआत से ही आक्रामक रुख अपनाया और नेपाल के गेंदबाजों पर कहर बरपाया। उन्होंने तीसरे ओवर में ही 16 रन बटोरे। उन्होंने 10वें ओवर में अपना अर्धशतक पूरा किया। यशस्वी जायसवाल की इस पारी से भारतीय टीम ने 20 ओवर में 205 रनों का स्कोर बनाया। जवाब में नेपाल की टीम 180 रनों पर ही सिमट गई।

Yashasvi Jaiswal T20 career

  • मैच: 14
  • रन: 593
  • औसत: 40.21
  • उच्चतम स्कोर: 100
  • अर्धशतक: 3
  • शतक: 1
  • छक्के: 26
  • चौके: 38

भारत के लिए सबसे कम उम्र में शतक जड़ने वाले खिलाड़ी

  1. यशस्वी जायसवाल- 21 साल 279 दिन
  2. शुभमन गिल- 23 साल 146 दिन
  3. सुरेश रैना- 23 साल 156 दिन
  4. केएल राहुल- 24 साल 131 दिन

Yashasvi Jaiswal life story

यशस्वी जायसवाल का जीवनी यशस्वी जायसवाल का जन्म 28 दिसंबर 2001 को उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में हुआ था। उनके पिता एक किराने की दुकान चलाते थे। यशस्वी को बचपन से ही क्रिकेट का शौक था। वह अपने गांव में ही क्रिकेट खेलते थे। लेकिन उन्हें लगा कि अगर वह अपने सपने को पूरा करना चाहते हैं तो उन्हें मुंबई जाना होगा। इसलिए वह 11 साल की उम्र में अपने घर से दूर मुंबई चले आए।मुंबई में यशस्वी को शुरुआत में बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ा। उन्हें रहने के लिए एक ठोस छत नहीं मिली। वह एक मैदान के पास एक टेंट में रहते थे। वह दिन में क्रिकेट खेलते और रात में टेंट में सोते थे। उन्हें खाने के लिए भी परेशानी होती थी। वह कभी-कभी दूध बेचकर या पानीपूरी बनाकर अपना पेट पालते थे। लेकिन उन्होंने कभी भी हिम्मत नहीं हारी। वह अपनी क्रिकेट की प्रैक्टिस करते रहे।

यशस्वी को मुंबई के एक कोच जवेद खान ने देखा और उन्हें अपने अकादमी में शामिल कर लिया। उन्होंने यशस्वी को बल्लेबाजी की टिप्स दी और उनका हौसला बढ़ाया। यशस्वी ने अपनी प्रतिभा का प्रमाण देते हुए अलग-अलग स्तरों पर शानदार पारियां खेली। वह मुंबई की अंडर-14, अंडर-16 और अंडर-19 टीमों के लिए खेले। वह भारत की अंडर-19 टीम का भी हिस्सा बने।

यशस्वी ने अक्टूबर 2019 में लिस्ट ए क्रिकेट में अपना पहला दोहरा शतक बनाया। वह झारखंड के खिलाफ विजय हजारे ट्रॉफी में 154 गेंदों पर 203 रन बनाकर नोट आउट रहे। इसके साथ ही वह लिस्ट ए क्रिकेट में दुनिया के सबसे युवा दोहरा शतकवीर बन गए। उनकी इस पारी के बाद आईपीएल 2020 के लिए राजस्थान रॉयल्स ने उन्हें 2.4 करोड़ रुपये की बोली पर खरीद लिया।

यशस्वी जायसवाल का लक्ष्य यशस्वी जायसवाल का लक्ष्य है कि वह भारत की सीनियर टीम के लिए खेलें और अपने देश का नाम रोशन करें। वह अपने प्रेरणा स्त्रोत मानते हैं सचिन तेंदुलकर को। वह उनकी तरह बल्लेबाजी करना चाहते हैं। वह अपने कोच जवेद खान का भी बहुत आभारी हैं। वह कहते हैं कि उन्होंने उन्हें क्रिकेट के बारे में सब कुछ सिखाया है।यशस्वी जायसवाल की कहानी एक सफलता की कहानी है। वह अपनी मेहनत और जुनून से अपने सपने को साकार कर रहे हैं। वह एक आगामी सितारा हैं। वह Asian Games 2023 में भारत को स्वर्ण पदक दिलाने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। हम सभी उनके लिए शुभकामनाएं देते हैं।

Leave a Comment